kavita

meri bhavnaon ka sangrah

66 Posts

1656 comments

Acharya Vijay Gunjan


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

गीत चेतना की दो कविताएँ

Posted On: 1 Jun, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi Sahitya Others कविता में

12 Comments

दिल्ली वालो

Posted On: 4 Feb, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others कविता पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

4 Comments

अन्ना जी के दोनों चेले

Posted On: 22 Jan, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others Others कविता में

6 Comments

लिखेंगे संघर्ष ही हम

Posted On: 11 Jun, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others social issues कविता में

18 Comments

ये बहेलिये फिर से जाल बिछाने आए हैं

Posted On: 16 Apr, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others Others कविता में

22 Comments

फागुनी कुंडलिया

Posted On: 17 Mar, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi Sahitya Others कविता में

22 Comments

Page 1 of 712345»...Last »

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: nishamittal nishamittal

के द्वारा: DR. SHIKHA KAUSHIK DR. SHIKHA KAUSHIK

के द्वारा: DR. SHIKHA KAUSHIK DR. SHIKHA KAUSHIK

के द्वारा: jlsingh jlsingh

आदरणीय आचार्य गुंजन जी, श्रृंगार की सात्विक विद्यमानता, क्रिया-प्रतिक्रिया, अपेक्षा, सृष्टि-सम्मत सहभाव तथा सत्य से सौन्दर्य की यात्रा में उसके सात्विक उपयोग-उपभोग में संकोच कैसा ? यह तो ऐसे हुआ जैसे किसी बच्चे को बार-बार कहना पड़े कि देखो बेटे अंकल आए हैं, इन्हें नमस्ते करो और बच्चा मारे शर्म के कुछ देर खड़ा रहे और फिर बिना नमस्ते किए मुँह फेर कर भाग खड़ा हो, दूसरे कमरे में घुस जाए | या फिर सुहागरात के लिए कुछ भली रिश्तेदार औरतें चुहल करती हुई आप को कमरे में धकेलकर बाहर से दरवाज़ा बंद कर दें और आप भले मानस कूदकर पंखे पर चढ़कर बैठ जाएँ तथा नवागत दुल्हन महोदया आप की हाल पर मंद-मंद मुस्काती, कुछ-कुछ हैरान-परेशान, कुछ-कुछ हक्का-बक्का अपना माथा पीटती रहें | अब भला ऐसे शर्म की कहाँ आवश्यकता है ? इसलिए कवि के सम्प्रेषण-संस्कार की यह माँग है कि आप चौथे बंध को यहाँ जोड़कर अपने चहेते पाठकों को उपकृत करें | ... आगामी साहस के लिए पहले से साधुवाद एवं सद्भानाओं सहित |

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

के द्वारा: yamunapathak yamunapathak

के द्वारा: DR. SHIKHA KAUSHIK DR. SHIKHA KAUSHIK

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

के द्वारा: acharyashivprakash acharyashivprakash

के द्वारा: Acharya Vijay Gunjan Acharya Vijay Gunjan

के द्वारा: Acharya Vijay Gunjan Acharya Vijay Gunjan

के द्वारा: DR. SHIKHA KAUSHIK DR. SHIKHA KAUSHIK

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

के द्वारा: Acharya Vijay Gunjan Acharya Vijay Gunjan

के द्वारा: Acharya Vijay Gunjan Acharya Vijay Gunjan

के द्वारा: Acharya Vijay Gunjan Acharya Vijay Gunjan

के द्वारा: yamunapathak yamunapathak

के द्वारा: Acharya Vijay Gunjan Acharya Vijay Gunjan

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

के द्वारा: UMASHANKAR RAHI UMASHANKAR RAHI

के द्वारा: Acharya Vijay Gunjan Acharya Vijay Gunjan

के द्वारा: DR. SHIKHA KAUSHIK DR. SHIKHA KAUSHIK

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

के द्वारा: Acharya Vijay Gunjan Acharya Vijay Gunjan

के द्वारा: DR. SHIKHA KAUSHIK DR. SHIKHA KAUSHIK

के द्वारा: Acharya Vijay Gunjan Acharya Vijay Gunjan

के द्वारा: Bhagwan Babu 'Shajar' Bhagwan Babu 'Shajar'

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

के द्वारा: Acharya Vijay Gunjan Acharya Vijay Gunjan

के द्वारा: yamunapathak yamunapathak

के द्वारा: Sushma Gupta Sushma Gupta